रेत हो गए लोग ...

रेत हो गए लोग ...
रवि प्रकाश

Thursday, July 29, 2010

धूमिल के लिए
कवितायें संसद के
हर बलात्कार के बाद
पैदा हुई उस संतान की तरह हैं
जिसे जिंदगी भर अपने
बाप की तलाश रहती है
और माँ को उसके
गुनाहगार की !

गोष्ठियों ,सम्मेलनों और न्यायालयों से
होती हुई जब ये कवितायें
संसद में बहस के लिए रखी जाती है
तो सारी संसद मौन हो जाती है !
वक्क्तव्यों और विचारों के धुल कचरे
झाड कर फ़ेंक दिए जाते है
दिमाग जकड जाता है
उंगलियाँ अकड़ जाती हैं
और इसीलिए कवितायें;
एक सार्थक वक्तव्य होते हुए भी
निरर्थक गवाही हैं !

No comments:

Post a Comment

Loading...